The Preparation Of A Leader Through Tests | परीक्षणों से अगुवे की तैयारी | परमेश्वर किसी अगुवे को कैसे तैयार करता है?

Published on

The Preparation Of A Leader Through Tests. परीक्षणों से अगुवे की तैयारी। परमेश्वर किसी अगुवे के जीवन में परीक्षण क्यों लाता है? परमेश्वर किसी अगुवे को कैसे तैयार करता है? बहुत बार मैंने कई मसीहियों को ये शिकायत करते हुए सुना है कि मेरे साथ ऐसा क्यों हो रहा है? ये संघर्ष या परीक्षाएं कब समाप्त होंगी? मेरे प्रियो, मैं स्पष्ट कर देना चाहता हूँ कि ऐसी शिकायतें वो इसलिए करते हैं क्योंकि वे मसीही होने के बावजूद भी इस बात को अभी तक समझ नहीं पाए हैं कि वे एक मसीही हैं और न वे अपने रिश्ते को परमेश्वर के साथ विकसित कर पाए हैं।

ये तो अपने सुना ही होगा कि “शांत समुद्र में नाविक कभी कुशल नहीं बन सकता।” एक मसीही अगुवा होने के नाते ये कथन हमारे लिए भी सत्य है। एक अगुवे की कार्यकुशलता में गुणवता (Quality) लाने के लिए परमेश्वर उन्हें ऐसे समुद्र में प्रशिक्षित करता है जो शांत नहीं हैं। बाइबल स्पष्ट रूप से सिखाती है कि परमेश्वर प्रत्येक सेवकाई का परीक्षण करता है जिसका वह अपने राज्य में इस्तेमाल करता है। जब हम कहते हैं कि परमेश्वर एक सेवकाई का परीक्षण करता है, तो हमारा मतलब है कि परमेश्वर किसी भी ऐसे साधन का उपयोग करता है जिसे वह स्वयं जानता है, जो कि उसकी उपस्थिति, गुणवत्ता या वास्तविकता को निर्धारित करेगा, जिन्हें वह बुलाता है।

एक अगुवे की कार्यकुशलता में गुणवता लाने के लिए परमेश्वर उन्हें ऐसे समुद्र में प्रशिक्षित करता है जो शांत नहीं हैं।

परमेश्वर उन लोगों के सच्चे आंतरिक व्यवहार और उद्देश्यों का मूल्यांकन करता है, जिन्हें वह बुलाता है, यह देखने के लिए कि वे शुद्ध हैं या नहीं। परमेश्वर उन लोगों को कठिन परिस्थितियों में डालता है जो उन्हें आध्यात्मिक रूप से उनके जीवन की मिलावट को दूर करेंगे। (जैसे परीक्षण के लिए लैटिन शब्द, “टेस्टु,” जिसका अर्थ है ऊपर से ढक्कन के लगाकर मिट्टी के बर्तन के अंदर रखा जाना) 

परमेश्वर किसी अगुवे को कैसे तैयार करता है?

Table of Contents

इब्रानियों 12:29 में लिखा है कि “क्योंकि हमारा परमेश्वर भस्म करने वाली आग है।” भस्म करने वाली आग के रूप में परमेश्वर, हर व्यक्ति का दृष्टिकोण और इरादे को परखता है और ये परिक्षण परमेश्वर उसकी कमजोरी को प्रकट करने के लिए नहीं बल्कि उनकी सहायता के लिए प्रभु की ओर फिरने के लिए है। परमेश्वर अपने नेतृत्व के पात्र को साबित करता है, परमेश्वर पहले से ही उनकी आंतरिक कमजोरियों को जानता है, ताकि ये ठीक हो सकें। परमेश्वर एक अगुवे का परीक्षण करेगा और उसे शुद्ध करने का प्रयास करेगा। परमेश्वर केवल शुद्ध अगुवों का इस्तेमाल करेगा, जिनकी सेवकाई का एकमात्र उद्देश्य परमेश्वर की महिमा और आत्माओं का उद्धार है।

परमेश्वर के परीक्षण का प्राथमिक उद्देश्य वफादार पुरुषों और महिलाओं को पैदा करना है। इससे इस बात का पता भी चलता है कि वे कौन हैं जिन्हें वास्तव में परमेश्वर ने नहीं बुलाया है। वह अपने अगुवों को कठिन परिस्थितियों में डालता है। जो लोग अपने जीवन में आत्मा की सच्ची पुकार को महसूस नहीं करते हैं वे इस तैयारी की प्रक्रिया से बाहर हो जाते हैं।

परमेश्वर अपने अगुवों का परीक्षण करता है ताकि उन्हें उस आध्यात्मिक समझ से तैयार किया जा सके जिसकी उन्हें अपने लोगों की मदद करने की आवश्यकता है। सभी मसीही विभिन्न प्रकार के परीक्षणों और संघर्षों का अनुभव करते हैं। केवल वही अगुवा जिसने स्वयं इन पर सफलतापूर्वक विजय प्राप्त की है, लोगों की सहायता कर सकता है। 

तैयारी का समय परमेश्वर की सेवकाई के निर्धारित परीक्षणों का समय है। परमेश्वर के अगुवों को उनकी विभिन्न सेवकाइयों के लिए विशिष्ट रूप से तैयार करने के लिए, परमेश्वर उन्हें कई अलग-अलग परीक्षणों से गुजारते हैं। एक अगुवे के पूरे जीवन में परमेश्वर के विभिन्न परीक्षण हो सकते हैं। तैयारी में उनकी भूमिका पर जोर देने के लिए, हम एक विशेष तैयारी अवधि में सेवकाई के विभिन्न परीक्षणों का अध्ययन करेंगे।

समय परीक्षण के द्वारा एक अगुवे की तैयारी।

समय परीक्षण क्या है? – समय के परीक्षण में, सभी बाहरी अनुभव से, ऐसा प्रतीत होता है कि परमेश्वर उस वचन को पूरा नहीं कर रहा है जो उसने पिछले समय में एक अगुवे को दिया था। समय का परीक्षण एक अगुवे के धैर्य का परीक्षण होता है, जिससे वह अपने समय और तरीके से अपनी बुलाहट और सेवकाई को पूरा करने के लिए परमेश्वर पर भरोसा करने के लिए मजबूर हो जाता है।

समय के परीक्षण का उद्देश्य क्या होता है? – यह परीक्षण एक अगुवे को विश्वास में बढ़ने का अवसर देता है। हर किसी का अपना विश्वास का पैमाना होता है। लेकिन एक अगुवे के रूप में अपने लोगों का नेतृत्व करने के लिए उसे परमेश्वर में अधिक विश्वास रखने की जरूरत है। समय का परीक्षण एक अगुवे के उद्देश्यों और दृष्टिकोणों को भी शुद्ध करता है।

हम परमेश्वर के वचन में अब्राहम को देख सकते हैं। (उत्पति 12-18) जब परमेश्वर ने अब्राहम को हारान से बाहर बुलाया तब वह 75 वर्ष का था। (उत्पत्ति 12:1-9) अब्राहम को अपने लिए परमेश्वर के वादे को पूरा होते देखने के लिए 25 साल का इंतजार करना पड़ा।

क्या आप अपने जीवन को इस समय जाँच कर सकते हैं कि आप इस समय परीक्षण में कैसी प्रतिक्रिया दे रहे हैं? 

शब्द या वचन परीक्षण के द्वारा अगुवे की तैयारी।

शब्द परीक्षण क्या होता है? – इस प्रकार के परीक्षण में अगुवा ऐसी परिस्थितियों का अनुभव करता है जो परमेश्वर के लिखित या जीवित वचन को निष्प्रभावी करती प्रतीत होती है। परमेश्वर की इच्छा मेरे जीवन में कैसे हो सकती है? बहुत से लोग सोचते हैं कि वे तो परमेश्वर के आत्मा द्वारा भरे और बुलाए गए हैं, उन्हें कभी भी अंधकार या भ्रम का अनुभव नहीं करना चाहिए।

परमेश्वर शब्द परीक्षण का उपयोग एक अगुवे को अपने स्वयं के संसाधनों को अस्वीकार करने और परमेश्वर के वचन को सफल करने के लिए केवल परमेश्वर की शक्ति पर निर्भर करने के लिए करता है। यह एक अगुवे के लिए एक मुश्किल काम है, खासकर कई शक्तियों और क्षमताओं वाले व्यक्ति के लिए। क्योंकि एक प्रतिभाशाली अगुवा आसानी से परमेश्वर से ज्यादा खुद पर भरोसा कर सकता है। 

हम परमेश्वर के वचन में युसूफ के जीवन को देख सकते हैं। (उत्पति 37-45) 17 वर्ष की आयु में यूसुफ ने दो स्वप्नों के रूप में परमेश्वर का वचन प्राप्त किया। वह कई परीक्षणों से गुजरा और आखिरकार, जेल से छूटने की उसकी संभावना भी चकनाचूर हो गई, क्योंकि राजा के प्रमुख पिलाने वाले ने उसे याद नहीं किया। अपने जीवन में परमेश्वर के वचन को सच होते देखने के लिए यूसुफ को 14 साल तक इंतजार करना पड़ा और कई परीक्षाओं से गुजरना पड़ा।

The Preparation of a leader through tests
Contributed by FreeBibleimages

हो सकता है कि आपके पास भी परमेश्वर के कोई विशिष्ट वचन या वादे हों जो अब तक पूरे नहीं हुए हों। क्या आप अब भी विश्वास करते हैं कि परमेश्वर के समय में ऐसा होगा?

चरित्र परीक्षण के द्वारा अगुवे की तैयारी।

इस तरह के परीक्षण में एक अगुवा अधर्म से घिरा होता है, जो उसे अपनी ओर खींचने का प्रयास करता है। अगुवे को शरीर की वासना, आँखों की वासना या जीवन के अभिमान में पाप करने की प्रलोभन हो सकता है। प्रेम, आनंद, शांति, धैर्य आदि जैसे मजबूत ईश्वरीय चरित्र गुणों के साथ अगुवों को विकसित करने के लिए, परमेश्वर अपने अगुवे को उग्र स्थानों पर रखते हैं ताकि वे मजबूत खड़े होना सीख सकें।

चरित्र परीक्षण अगुवे को उसके स्वयं के व्यक्तित्व में कमजोरी के क्षेत्रों को दिखाता है। प्रत्येक अगुवे में चरित्र की कमियाँ छिपी होती हैं, जिससे वह पूरी तरह से अनजान होता है, जब तक कि एक विशिष्ट स्थिति का सामना नहीं किया जाता है जो एक ईश्वरीय प्रतिक्रिया की मांग करती है। चरित्र परीक्षण भी अगुवे को अपने चारों ओर अंधेरे की शक्तियों के खिलाफ साहसपूर्वक खड़े होने के लिए प्रेरित करता है।

हम शमूएल के जीवन से सीख सकते हैं। (1 शमूएल 2-3) शमूएल को न्यायियों में अंतिम और महान् और भविष्यद्वक्ताओं में पहला माना जाता है। (प्रेरितों के काम 13:20) हालाँकि, शमूएल का बचपन एक भ्रष्ट स्थिति में गुज़रा था। एली महायाजक और उसके पुत्र शारीरिक और आध्यात्मिक रूप से सुस्त हो गए थे। एक भ्रष्ट पौरोहित्य के बीच में एक बहुत छोटा लड़का होने के बावजूद, शमूएल ने परमेश्वर की आराधना की और खुद को पाप से दूर रखा।

The Preparation of a leader through tests
Contributed by Sweet Publishing

यदि आपकी टीम में या कार्यस्थल में अगुवे सहित अन्य सभी भ्रष्ट कार्य करते हैं, तो आप वहां पर कैसे प्रतिक्रिया देंगे? 

प्रेरणा परीक्षण के द्वारा अगुवे की तैयारी।

प्रेरणा परीक्षण क्या होता है? यह एक स्वर्गीय परीक्षण है जिसमें परमेश्वर अगुवे को उजागर करता है कि कौन सी आंतरिक और बाहरी ताकतें उसकी निर्णय लेने की प्रक्रिया को प्रभावित करती हैं। परमेश्वर एक अगुवे के सच्चे इरादों, विचारों, मूल्यों और प्राथमिकताओं को प्रकट करने के लिए परिस्थितियों की व्यवस्था करेगा, जो उसे एक निश्चित तरीके से चुनाव या कार्य करने के लिए प्रेरित करते हैं।

प्रेरणा परीक्षण का उद्देश्य क्या होता है? इस परीक्षण में परमेश्वर अगुवे की उन आंतरिक प्रेरणाओं को प्रकट करने के लिए प्रेरणा परीक्षण का उपयोग करता है ताकि अगुवे की इच्छाओं में शुद्धता आए जिसके द्वारा परमेश्वर की महिमा, आत्माओं के उद्धार और कलीसिया की उन्नति हो सके। 

एक अगुवा परमेश्वर की सेवा, उसके लिए कर सकता है जो उसे परमेश्वर से प्राप्त होता है; बजाय इसके कि परमेश्वर उसे या उसके लोगों को क्या दे सकता है। एक व्यक्ति अपने वरदानों का उपयोग परमेश्वर के बजाय उसकी अपनी महिमा करने के लिए कर सकता है। परमेश्वर अधर्मी प्रेरणाओं को बेनकाब करने के लिए प्रेरणा परीक्षणों का उपयोग करता है ताकि अगुवा परमेश्वर की इच्छा को जाने और उसके शुद्ध ह्रदय से सच्चा प्रेम निकले।

हम परमेश्वर के वचन में बिलाम के जीवन को देख सकते हैं। (गिनती 22-23) परमेश्वर बिलाम की प्रेरणा का परीक्षण ले रहा था कि क्या वह बिक जाएगा, या वह परमेश्वर के वचन के प्रति वफ़ादार होगा? परमेश्वर ने बालाक को भविष्यद्वक्ता की प्रेरणा को लगातार लुभाने की अनुमति दी और हर बार रिश्वत का आकार बढ़ता गया। दुर्भाग्य से, ऐसा प्रतीत होता है कि बिलाम की प्रेरणा शुद्ध नहीं रही, हालाँकि उसने शुरू में केवल प्रभु के वचन को बोलने के प्रति वफादार रहने की कोशिश की। (गिनती 23:12.26) बिलाम प्रभु की ओर से इस प्रेरणा परीक्षण में असफल रहा (2पतरस 2:15; यहूदा 11; प्रकाशितवाक्य 2:14) जिससे वह धन के लिए परमेश्वर की आज्ञा न मानने और परमेश्वर के लोगों को शाप देने के लिए भी तैयार हो गया।

क्या आपने भी अपने व्यक्तिगत लाभ के लिए अपने आपको बेच तो नहीं दिया है? कृप्या थोड़ी देर इस पर मनन करें। 

सेवक परीक्षण के द्वारा अगुवे की तैयारी।

यह सेवक परीक्षण क्या होता है? इसमें व्यक्ति को ऐसे छोटे-मोटे काम करने के लिए कहा जाता है जो उसको ईश्वर की उच्च बुलाहट से कम लगते हैं। परमेश्वर के सच्चे सेवक के लिए कोई भी काम छोटा नहीं है। यह देखने के लिए कि क्या वह एक सेवक अगुवा (Servant Leader) बनने के लिए तैयार है, परमेश्वर लगातार इसमें अपने अगुवे की परीक्षा लेता है।

सेवक परीक्षण का उद्देश्य – सेवक परीक्षण से पता चलता है कि क्या सेवकाई की प्रेरणा केवल लोगों की नज़रों में रहने और सेवा प्राप्त करने की है, या क्या वह वास्तव में लोगों की मदद करने और उनकी सेवा करने की इच्छा रखता है। परमेश्वर अधिकारियों को निर्देश देता है कि वे सेवा के प्रति व्यक्ति की प्रतिबद्धता (Commitment) को समझने के लिए इस परीक्षण का उपयोग करे।

हम वचन में एलिशा के बारे में देख सकते हैं। (1 राजा 19) जब एलिय्याह ने एलीशा को पाया, जो उसका भविष्यद्वक्ता वारिस बनने वाला था, एलीशा बारह जोड़ी बैलों के साथ उसके आगे खेत में हल जोत रहा था। इसका मतलब है कि एलीशा अंत में था और यह एक आरामदायक जगह नहीं थी, लेकिन यह एक विनम्र स्थिति थी।

The Preparation of a leader through tests
Contributed by FreeBibleimages

क्या आप स्वयं ही ऐसी जिम्मेदारियों और कार्य करने के लिए आगे आते हैं जो बहुत ही तुच्छ लगती हैं?

जंगल परीक्षण के द्वारा अगुवे की तैयारी।

इसमें परमेश्वर, प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से एक अगुवे (या भविष्य के अगुवे) को भौतिक या आध्यात्मिक रूप से सूखे और उजाड़ स्थान पर ले जाता है। जब उसके जीवन या सेवकाई से कोई फल नहीं मिलता है, तो एक अगुवे को लगता है कि वह इस परीक्षण में है। इस परीक्षण में, एक अगुवे को संदेह हो सकता है कि क्या उसके जीवन में परमेश्वर की बुलाहट है या नहीं। कभी-कभी इस स्थिति में एक अगुवे के पास बात करने के लिए कोई और नहीं बल्कि स्वयं परमेश्वर ही रह जाता है।

वीराने के परीक्षण का उद्देश्य – वीराने का परीक्षण एक अगुवे की उन अच्छी चीज़ों के लिए प्रशंसा बढ़ाती है जो परमेश्वर ने उसके जीवन में पहले ही डाल दी है। 

यह परीक्षण अगुवे को यह भी सिखाता है कि कैसे यह पता लगाया जाए कि कैसे केवल प्रभु ही उसके आध्यात्मिक जीवन का निर्वाह करता है, या वह परमेश्वर के साथ अपने संबंध को बनाए रखने के लिए अपनी सेवकाई की गतिविधियों से आकर्षित होता है। क्या एक अगुवे की प्रार्थना, वचन और सुसमाचार प्रचार गतिविधियाँ केवल इसलिए बंद हो जाती हैं क्योंकि वह “पूर्णकालिक” मसीही कार्य में नहीं है? 

बहुत सारे लोग कहते हैं कि मैं तो पार्ट टाइम सेवा करता हूँ। मुझे लगता है उनको इस विचार पर एक बार जरुर विचार करना चाहिए। क्योंकि परमेश्वर के लिए एक मसीही की सेवा पार्ट टाइम नहीं बल्कि फुल टाइम होना चाहिए, जो कि वचन भी हमें इसके लिए प्रात्साहित करता है। (रोमियों 12:1-2) इसके लिए किसी मसीही को उसकी नौकरी छोड़ने की जरुरत नहीं है बल्कि वही उसका कार्यस्थल है जहाँ उसे मसीह के लिए कार्य करना है।

परमेश्वर जंगल के परीक्षण या वीराने के परीक्षण का उपयोग संसार के सारे ज्ञान और मार्गों को अगुवे से छुड़ाने के लिए करता है, और उसे अपनी आत्मा के मार्ग सिखाने के लिए करता है। बंजर भूमि का अनुभव भी एक अगुवे को प्रार्थना और वचन में अपने जीवन को विकसित करने के लिए प्रेरित करता है। 

हम मूसा के जीवन को देख सकते हैं। (निर्गमन 2, 3) मूसा ने एक मिस्री को मारकर एक साथी इस्राएली की मदद करने की कोशिश की। फिर वह जंगल में भाग गया। 40 वर्ष के बाद यहोवा के एक दूत ने मूसा को परमेश्वर के लोगों को मिस्र से छुड़ाने के लिए बुलाया। परमेश्वर ने मूसा को उसकी सारी मिस्री शिक्षा छीन लेने और उसके काम के लिये तैयार करने के लिये 40 वर्ष तक जंगल में रखा। 

The Preparation of a leader through tests
Contributed by YoMinistry

क्या आप ऐसे अनुभव से गुजरे हैं? क्या आप इससे सीखी गई कुछ महत्वपूर्ण बातें साझा कर सकते हैं? अगर ऐसा है तो उन बातों को दूसरों की मदद के लिए इस्तेमाल करें।

गलतफहमी परीक्षण के द्वारा अगुवे की तैयारी।

गलतफहमी का परीक्षण तब होता है जब किसी अगुवे को सुनने वाले सही अर्थ प्राप्त नहीं करते (या अस्वीकार करते हैं) जो वह बातचीत करने की कोशिश कर रहा है। लोग उसके कार्य, शब्दों, दृष्टिकोण या उद्देश्यों के वास्तविक महत्व की गलत व्याख्या या गलती कर सकते हैं। 

इस परीक्षण का उद्देश्य क्या रहता है? यह परीक्षण एक अगुवे को अपनी भावनाओं को सामने लाने के लिए एक नए या बेहतर तरीके की तलाश करने का कारण बनता है। यह उसे संचार में अपने मूल दृष्टिकोण और प्रेरणाओं की जांच करने का भी कारण बनता है। कई बार लोग गलत समझ लेते हैं कि एक व्यक्ति क्या कहना चाह रहा है क्योंकि संचारक का रवैया बहुत कठोर या क्रोधित होता है जब वह इसे कहने की कोशिश करता है। 

जब एक अगुवे को बड़ी गलतफहमी का पता चलता है, तो वह पूरी तरह से परमेश्वर पर भरोसा करने के लिए प्रेरित होता है, न कि एक संचारक के रूप में अपने स्वयं के कौशल में। गलतफहमी का परीक्षण एक अगुवे को विनम्र बनाने के लिए है क्योंकि इसमें वे लोग शामिल होते हैं जो उसके बहुत प्रिय और करीबी हैं।

मानसिक, भावनात्मक और आध्यात्मिक रूप से स्वतंत्र होने के लिए एक अगुवे को कुछ गलतफहमियों के लिए अपने दिल में जगह बनानी चाहिए क्योंकि लोग किसी न किसी कारण से उसे गलत समझेंगे। इसके लिए हम प्रभु यीशु के जीवन में भी देख सकते हैं। (यूहन्ना 6:60) जब यीशु ने कहा, “मेरा मांस खाओ और मेरा खून पी लो” उसके कुछ करीबी शिष्यों ने गलत समझा और उसे छोड़ दिया। 

थोड़ा विचार कीजियेगा, क्या आपने कभी अपने अगुवों को गलत समझा है? आपने कैसे प्रतिक्रिया दी? क्या कभी लोगों ने आपको गलत समझा है? उन्होंने कैसे प्रतिक्रिया दी?

धैर्य परीक्षण के द्वारा अगुवे की तैयारी।

यह परीक्षण तब होता है जब एक अगुवे की अपेक्षाएं परमेश्वर में “समय पर” पूरी नहीं होती हैं। धैर्य पवित्र आत्मा का फल है। यह शब्द एक लैटिन शब्द से आया है जिसका अर्थ है “पीड़ित होना।” धैर्य के परीक्षण में परमेश्वर एक अगुवे को चुनौती देता है कि वह बिना किसी शिकायत के धैर्यपूर्वक प्रतीक्षा करें या कुछ क्लेश सहें। धैर्य में बढ़ने के लिए एक अगुवे को आत्म-नियंत्रण खोए बिना या दूसरों को परेशान किए बिना दर्द या परेशानी को सहन करना चाहिए। 

इस परीक्षण का क्या उद्देश्य है? इस परीक्षण में, एक अगुवे ने अपने अधिकारों को यीशु मसीह को सौंप दिया होगा, ताकि वह अपने समय में चीजों को करने के लिए प्रभु की प्रतीक्षा करना सीख सके। 

इसको समझने के लिए हम नूह के जीवन को देख सकते हैं। (उत्पति 5-7) नूह को 120 साल तक अपने जहाज निर्माण परियोजना पर धैर्यपूर्वक काम करना पड़ा। इस पूरी अवधि के दौरान उन्होंने पश्चाताप का संदेश दिया लेकिन किसी ने ऐसा नहीं किया। किसी भी प्रचारक के लिए बिना किसी परिणाम के प्रचार करने के लिए यह बहुत लंबा समय है।

यह केवल इसलिए था क्योंकि परमेश्वर ने नूह को ईश्वरीय अनुग्रह और धैर्य दिया था कि वह इस परीक्षा को इतनी अच्छी तरह से सहन कर सका। 

आपके जीवन और सेवकाई के कुछ ऐसे क्षेत्र कौन से हैं जिनमें आप इस समय संघर्ष कर रहे हैं? 

निराशा या पराजय का परीक्षण के द्वारा अगुवे की तैयारी।

एक अगुवा इस परीक्षण से तब गुजरता है जब उसे लगता है कि उसके जीवन या सेवकाई के लक्ष्यों को प्राप्त नहीं किया जा सकता है। लोग या परिस्थितियाँ उसे उसकी सचेत या अचेतन इच्छाओं और लक्ष्यों को पूरा करने से रोक सकती हैं। एक अगुवा विशेष रूप से इस भावना का अनुभव तब करता है जब उसे कोई तार्किक या तर्कसंगत कारण नहीं मिलता है कि उसके प्रयासों को भ्रमित, विफल क्यों किया जा रहा है। 

इस परीक्षण का उद्देश्य क्या है? यह परीक्षण एक अगुवे को अपनी आध्यात्मिक प्राथमिकताओं की फिर से जांच करने का कारण बनता है। क्या वह प्रार्थना और वचन के लिए पर्याप्त समय दे रहा है? क्या वह अपनी पत्नी और परिवार पर पर्याप्त ध्यान दे रहा है? 

परमेश्वर कई बार एक अगुवे के जीवन में निराशा लाएगा जब उसकी प्राथमिकताओं को फिर से समायोजन (re-adjustment) की आवश्यकता होगी। यहाँ हम पौलुस के जीवन से सीख सकते हैं। (2 कुरिन्थियों 11) प्रेरित पौलुस के इन शब्दों के माध्यम से निराशा की एक निश्चित भावना आती है। (2 कुरिन्थियों 11:17-33) हम पौलुस की हताशा को विशेष रूप से पद 28 और 29 में महसूस कर सकते हैं। पौलुस भी हमारी तरह एक इंसान था। 

निरुत्साहित होने का परीक्षण के द्वारा अगुवे की तैयारी।

एक अगुवा इस परीक्षण से तब गुजरता है जब वह परिस्थितियों या लोगों के द्वारा निराश हो जाता है और निरुत्साहित हो जाता है। ऐसे समय के दौरान, एक अगुवा परमेश्वर के प्रावधान, उसकी प्रतिज्ञा या उसकी बुलाहट में अपना विश्वास या आशा खो सकता है। 

इस परीक्षण का उद्देश्य? निरुत्साहित होने के कारण अगुवा प्रार्थना में परमेश्वर के पास जाता है, विशेष रूप से भजनों के माध्यम से। हतोत्साहन परीक्षण के दौरान, एक अगुवे को उस भजन को खोजने का प्रयास करना चाहिए जो उसकी आत्मा की मनोदशा को सर्वोत्तम रूप से व्यक्त करता है और फिर उसके माध्यम से ईमानदारी से परमेश्वर से प्रार्थना करते रहना चाहिए।

ऐसे परीक्षण के समय में निराशा या संघर्ष गलत नहीं है। लेकिन ऐसी परिस्थिति के प्रति व्यक्ति जो रवैया अपनाता है, वह गलत हो सकता है, अगर वह आत्म-दया या निराशा की भावना में बना हो। एक अगुवे को यह सीखना चाहिए कि सच्चा आनंद केवल परमेश्वर से आता है, न कि परिस्थितियों, लोगों या घटनाओं से। 

यह परीक्षण एक अगुवे में छिपे बुरे रवैये को भी उजागर करता है। जब सब कुछ ठीक चल रहा होता है तो कई अगुवे आनंद लेते हैं और परमेश्वर को धन्यवाद देते हैं। लेकिन जब चीजें हिलने लगती हैं और परेशान करती हैं तो वे बड़बड़ाते हैं या शिकायत करते हैं। एलिय्याह बहुत निराश हो गया था जब उसे पता चला कि इस्राएल ने यहोवा को त्याग दिया है और उस रानी ईज़ेबेल ने उसे मारने की योजना बनाई थी। (1 राजा 19:2, 3)

क्या आप अभी कुछ निराशाओं से गुजर रहे हैं? उन्हें एक-एक करके उनका नाम लेकर हर चीज के लिए परमेश्वर का शुक्रिया अदा करना शुरू करें।

युद्ध परीक्षण के द्वारा अगुवे की तैयारी।

युद्ध परीक्षण तब होता है जब कोई अगुवा आत्मा में या परमेश्वर के राज्य के विस्तार में हिंसक आध्यात्मिक विरोध का सामना करता है। यद्यपि यह आत्मा के क्षेत्र में होता है, यह लोगों के साथ संघर्षों में, अपनी सेवकाई के प्रति प्रतिक्रिया की कमी या विभिन्न प्रकार के संघर्षों (पाप के लिए असहनीय प्रलोभन की भावना सहित) में घटित हो सकता है। इस बात को भी स्मरण रखें कि परमेश्वर कभी भी प्रलोभन का स्त्रोत नहीं होता है। 

कुछ लोगों का मानना है कि अभिषिक्त अगुवों को अन्य लोगों की तरह लुभाया नहीं जा सकता। हाल की नेतृत्व विफलताओं ने इस सोच को असत्य साबित कर दिया है। 

इस परीक्षण का उद्देश्य – आध्यात्मिक युद्ध अगुवे को आत्मा में मजबूत होने के लिए बाध्य करता है। इसमें आध्यात्मिक क्षेत्र प्राकृतिक क्षेत्र की तरह है, जहां व्यायाम और प्रतिरोध से ही मांसपेशियां मजबूत होती हैं। (1 तीमुथियुस 4:7, 8)

आध्यात्मिक युद्ध के माध्यम से एक अगुवा सीखता है कि उसे कैसे प्रभावी ढंग से वचन, प्रार्थना, स्तुति, और प्रभु यीशु मसीह के नाम के अपने आध्यात्मिक हथियारों का उपयोग करना है। 

प्रेरित पौलुस ने तीमुथियुस को आध्यात्मिक युद्ध की परीक्षाओं में सफल होने के लिए अपना सब कुछ देने के लिए प्रोत्साहित किया था। अपनी युवावस्था, अपने पिता की ग्रीक राष्ट्रीयता और अपने समय के विधर्मियों के कारण, तीमुथियुस आध्यात्मिक हमले का एक स्वाभाविक लक्ष्य था। हम इसे इन आयतों में देख सकते हैं। (1 तीमुथियुस 1:18; 4:7; 6:12; 2 तीमुथियुस 2:3,4) 

तीमुथियुस की तरह हर अगुवे को विश्वास की अच्छी लड़ाई लड़नी चाहिए जैसा पौलुस उसे उत्साहित करता है। स्मरण रखें कि हमारे आध्यात्मिक युद्ध को प्राकृतिक, शारीरिक, सांसारिक, मानवीय या गैर-आध्यात्मिक हथियारों से नहीं जीता जा सकता है। इस समय जांचें कि आप किन आध्यात्मिक क्षेत्रों से जूझ रहे हैं?

आत्म-इच्छा परीक्षण (Self-will Test) के द्वारा अगुवे की तैयारी।

जब एक अगुवे को महसूस होता है कि परमेश्वर उसे कुछ ऐसा करने के लिए कह रहा है जो उसकी अपनी योजनाओं या इच्छाओं का विरोध करता है, तो आत्म-इच्छा परीक्षण शुरू हो गया है। परमेश्वर को अपने द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले अगुवे की स्व-इच्छा या व्यक्तिगत महत्वाकांक्षाओं को तोड़ना होगा, ताकि परमेश्वर उससे अपने राज्य के लिए जो भी करवाना चाहता है उसे वह कर सके और उस पर भरोसा कर सके। 

यहां तक कि समय आने पर परमेश्वर, अच्छी और उचित चीजें भी हमें बलिदान करने के लिए कहता है। वह हमसे उसके लिए कुछ करने के लिए भी कहेगा और इसके लिए कोई तार्किक कारण नहीं बताएगा। परमेश्वर इन सबके माध्यम से एक अगुवे के हृदय में बालक जैसा विश्वास विकसित करने का प्रयास कर रहा है। उदाहरण के लिए जैसे अब्राहम को परमेश्वर ने अपने बेटे को बलिदान करने के लिए कहा।

इसका उद्देश्य – आत्म-इच्छा परीक्षण मनुष्य की इच्छा को परमेश्वर के वचन की अधीनता में लाता है, सर्वोच्च अधिकारी होने के नाते परमेश्वर के अधीन रहने के लिए।

हम प्रभु यीशु के जीवन में देख सकते हैं। (मत्ती 26:36-38) हम देखते हैं कि अपने मानवीय स्वरूप में, यीशु क्रूस को भोगना नहीं चाहते थे परन्तु अपने दिव्य स्वभाव में वे अपने स्वर्गीय पिता की इच्छा को पूरा करने के लिए तैयार थे। 

क्या आप अपने अधिकार को समर्पित करने में सहज महसूस करते हैं? 

दर्शन का परीक्षण (Vision Test) के द्वारा अगुवे की तैयारी।

दृष्टि परीक्षण तब होता है जब विपरीत लोग और परिस्थितियां परमेश्वर के उद्देश्य में एक अगुवे की आध्यात्मिक अंतर्दृष्टि को घेर लेती हैं। परमेश्वर के लोगों के अगुवे के लिए प्राकृतिक और भौतिक दृष्टि पर्याप्त नहीं है। परमेश्वर की इच्छा और उसके लोगों की इच्छा को देखने के लिए उसके पास विश्वास की आध्यात्मिक आंखें भी होनी चाहिए। 

यह आध्यात्मिक दृष्टि परीक्षण दो प्रश्न पूछता है –

  • क्या आप परमेश्वर के लोगों की आध्यात्मिक ज़रूरतों और समाधान को देख सकते हैं?
  • क्या आप विरोध और प्रतिकूल परिस्थितियों का विरोध कर सकते हैं और दृढ़ता से उस दृष्टि को धारण कर सकते हैं जो परमेश्वर ने आपको एक अगुवे के रूप में दिया है?

इसका उद्देश्य – दृष्टि परीक्षण एक अगुवे को दिखाता है कि उसकी आध्यात्मिक अंतर्दृष्टि वास्तव में कितनी उथली है। सभी अगुवे इस प्रलोभन में आते हैं कि उनकी वर्तमान शिक्षा, अंतर्दृष्टि, ज्ञान और बुद्धि कलीसिया की चुनौतियों का सामना करने के लिए पूरी तरह से पर्याप्त है। वे कहते हैं कि उन्हें एक सेमिनरी में प्रशिक्षित किया गया था। लेकिन हमें यह याद रखने की ज़रूरत है कि कोई भी अगुवा किसी सेमिनरी या बाइबल कॉलेज में पूरा प्रशिक्षण नहीं लेता है।

उदाहरण के लिए आप नहेम्याह के जीवन को देख सकते हैं (नहेम्याह 1,2,4) नहेम्याह की दृष्टि की परीक्षा और उसकी पूर्ति की कहानी में दो प्रमुख तत्व हैं।

  • सबसे पहले, नहेम्याह के पास विश्वास की आत्मिक आंखें थीं जो बेबीलोन की बंधुआई के बाद यरूशलेम में परमेश्वर के लोगों की जरूरतों और उसके समाधान को देखने के लिए थीं। (नहेम्याह 1:1-2:6)
  • दूसरे, प्रभु की ओर से आध्यात्मिक दृष्टि के प्रति उसकी प्रतिबद्धता (commitment) प्रतिकूल परिस्थितियों में नहीं झुकी। (नहेम्याह 4:6-10)

क्या आप उन लोगों की आध्यात्मिक ज़रूरतों को स्पष्ट रूप से देखते हैं जिनकी आप अगुवाई कर रहे हैं? रास्ते में क्या चुनौतियाँ हैं?

उपयोग परीक्षण के द्वारा अगुवे की तैयारी।

एक अगुवा अपने जीवन या सेवकाई की तैयारी में उपयोग परीक्षण से गुजरता है जब उसे अपने सेवकाई में अभ्यास करने के लिए मांग, निमंत्रण, परिणाम या अपेक्षित अवसर नहीं मिल पाता है। 

सबसे पहले, परमेश्वर अगुवे को यह दिखाने की इच्छा कर सकता है कि वह अपने आनंद और आध्यात्मिक पूर्ति के लिए स्वयं प्रभु पर निर्भर होने के बजाय अपनी वास्तविक सेवा या गतिविधि पर बहुत अधिक निर्भर है। परमेश्वर अगुवे को विनम्र करने की इच्छा कर सकते हैं। यह परीक्षण एक अगुवे के इरादों को भी शुद्ध करता है।

यह परीक्षण अगुवे को सेवकाई की गतिविधियों से अधिक सबसे पहले प्रभु से प्रेम करने में मदद करता है। हम यूहन्ना बपतिस्मा दाता के जीवन में देख सकते हैं। (मती 3; मरकुस 1; लूका 1,3; यूहन्ना 1) यूहन्ना जानता था कि उसका काम लोगों को मसीह की ओर ले जाना था न कि उसकी ओर। तभी वह कह पाया कि अवश्य है कि वह बढ़े और मैं घटूं। (यूहन्ना 3:30) वह अपनी वास्तविक सेवकाई की तुलना में तैयारी की लंबी अवधि को स्वीकार करने के लिए तैयार था। 

कई अगुवे शिकायत कर सकते हैं कि उन्हें 3 साल की सेवकाई के लिए 30 साल की तैयारी की क्या जरूरत है? लेकिन यीशु ने यह किया और यूहन्ना बप्तिस्मा देने वाले ने भी। किसी अगुवे के कहा है कि परमेश्वर को किसी अगुवे के निर्माण में लगभग 20 साल लग जाते हैं। 

अगुवों को उसके वरदानों और सेवकाई पर हल्की “पकड़” रखनी चाहिए। अपने जीवन और सेवकाई की जाँच करें और देखें कि जिन लोगों की आप रखवाली कर रहे हैं वे यीशु से अधिक प्रेम करते हैं या वे आपसे अधिक प्रेम करते हैं?

पदोन्नति परीक्षण के द्वारा अगुवे की तैयारी।

जब एक अगुवा स्वयं को कलीसिया में सेवकाई में आगे बढ़ते हुए नहीं पाता है, जैसा कि वह अपेक्षा करता है कि उसे बढ़ना चाहिए, तो वह पदोन्नति की परीक्षा में होता है। अगुवा अपने जीवन और सेवकाई में स्पष्ट वृद्धि, उन्नति या प्रभाव की कमी पर क्रोधित हो सकता है।

यह परीक्षण एक अगुवे के जीवन में या सेवकाई में किसी भी समय आ सकता है। उसके वरदान या सेवकाई जितनी अधिक विकसित होगी, इस परीक्षण को सहना उतना ही कठिन होगा। 

सच्ची आध्यात्मिक परिपक्वता के उपायों में से एक वह समय है जब कोई व्यक्ति एक सेवा को प्राप्त करने और इसके लिए मान्यता प्राप्त होने के बीच प्रतीक्षा कर सकता है। अधिकांश लोग एक निश्चित वरदान या सेवकाई के कार्य को प्राप्त करने के तुरंत बाद पदोन्नत होने की उम्मीद करते हैं। हालाँकि, पदोन्नति में परमेश्वर का समय हमेशा मनुष्य के समय के जैसा नहीं हो सकता है। वास्तव में, ज्यादातर समय ऐसा नहीं होता है। 

अधिकांश कारण जो पहले अन्य परीक्षणों के लिए दिए गए हैं, वे यहां भी लागू होते हैं। इनमें से कुछ हैं:

  • पदोन्नत करने से पहले परमेश्वर अगुवे के जीवन में नम्रता का विकास करता है।
  • पदोन्नत करने से पहले परमेश्वर अगुवे के जीवन में उसके उद्देश्यों का शुद्धिकरण करता है।
  • पदोन्नत करने से पहले परमेश्वर अगुवे के जीवन में परमेश्वर को महिमा देने वाला व्यक्ति बनाता है। 
  • पदोन्नत करने से पहले परमेश्वर अगुवे के जीवन में अगुवे के आंतरिक दृष्टिकोण को ठीक करता है। 
  • पदोन्नत करने से पहले परमेश्वर अगुवे के जीवन में, परमेश्वर की इच्छा के प्रति अपनी इच्छा को समर्पण करना सिखाता है।

याद रखें, तरक्की इंसान से नहीं, परमेश्वर से मिलती है। भजनकार कहता है कि बढ़ती न पूर्व से न पश्चिम से और न जंगल की ओर से आती है परन्तु परमेश्वर ही न्यायी है। (भजन संहिता 75:6-7) हम परमेश्वर के वचन में दाऊद के जीवन में देख सकते हैं कि किस प्रकार परमेश्वर ने उसे एक चरवाहे से राजा बना दिया। (1 शमूएल 16)

प्रत्येक अगुवे को सेवकाई के स्थान को स्वीकार करना चाहिए जो परमेश्वर ने उसे दिया है। (और समय-समय पर उसे देता है।) बहुत संघर्ष, ईर्ष्या और आहत भावनाओं से बचा जा सकता है यदि परमेश्वर के अगुवे अपनी सेवकाई ढूंढ़ लें और अपनी सीमाओं के भीतर रहें।

पर, परमेश्वर धर्मियों को ऊंचा करता है। वह केवल बुलाए हुए को ही ऊंचा करता है। केवल परमेश्वर ही धर्मी को पदोन्नत या तरक्की देता है। वह अगुवों की नियुक्ति करता है। (पढ़ें यशायाह 54:1-17; भजन संहिता 112:9; 148:14)

परमेश्वर हम सबको एक उत्तम देश की ओर ले जा रहा है। (पढ़ें: व्यवस्थाविवरण 8, प्रकाशितवाक्य 21, 22 अध्याय) पर इस बीच वह जरुर हमारे मन का परीक्षण जरुर लेगा कि हम उसकी सुनने के लिए तैयार है कि नहीं। मुझे विश्वास है कि आप इस तैयारी की प्रक्रिया को समझ गए होंगे। परमेश्वर कभी भी जल्दी में नहीं है या न उसको देरी हो गई है। वह आपको तैयार कर रहा है ताकि आपके जीवन में मसीह दिखाई दे और आपका जीवन परमेश्वर को महिमा दे।

परमेश्वर आपमें कार्य कर रहा है। कभी भी ये शिकायत न करें कि “और कितना समय!” आप इस तैयारी की प्रक्रिया में परमेश्वर का सहयोग करें। अपने आप को समर्पित कर दें। परमेश्वर का अनुग्रह आपके लिए काफी है। परमेश्वर किसी भी गली से आपको इसलिए ले जा रहा है ताकि आप उसके लोगों की अगुवाई अच्छे से कर सकें और उनको भी गलत मार्ग में जाने से रोक सकें।

शालोम

Anand Vishwas
Anand Vishwas
आशा है कि यहां पर उपलब्ध संसाधन आपकी आत्मिक उन्नति के लिए सहायक उपकरण सिद्ध होंगे। आइए साथ में उस दौड़ को पूरा करें, जिसके लिए प्रभु ने हम सबको बुलाया है। प्रभु का आनंद हमारी ताकत है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Best Sellers in Computers & Accessories

Latest articles

More like this