कलीसिया (CHURCH) क्या है? और इसका अस्तित्व क्यों है? (Understanding the CHURCH)

कलीसिया मसीह की दुल्हन है, जो यीशु और उसके अनुयायियों के बीच के रिश्ते को दर्शाता है। कलीसिया यीशु से अलग होकर फलवन्त नहीं हो सकती है। (यूहन्ना 15) कलीसिया अच्छे चरवाहे की देख-रेख में सुरक्षित है, यह चरवाहा उनकी जरूरतों को पूरी करता है, यह उन्हें रास्ता दिखाता है। और कलीसिया अपने चरवाहे को पहचानती है। (यूहन्ना 10) नए नियम में, कलीसिया को अक्सर विश्वासियों के एक समुदाय के रूप में वर्णित किया जाता है जो यीशु में अपने विश्वास और उनके प्रेम और उद्धार के संदेश को फैलाने की उनकी प्रतिबद्धता से एकजुट होते हैं।

कलीसिया (CHURCH) क्या है? और इसका अस्तित्व क्यों है? (Understanding the CHURCH) “कलीसिया” (Church) मूल यूनानी शब्द Ekklēsia (Ecclesia) का अनुवाद है। बहुत दुःख की बात है कि आज बहुत से लोग कलीसिया को एक इमारत के रूप में समझते हैं, जबकि बाइबल के अनुसार कलीसिया (Church) का अर्थ कोई इमारत नहीं होता है। कलीसिया का अर्थ होता है; “बुलाए गए लोगों की सभा।” कलीसिया का मूल अर्थ कोई भवन नहीं, बल्कि व्यक्ति है। उदाहरण के लिए पौलुस कहता है, “उस कलीसिया को नमस्कार जो उनके घर में है।” पौलुस उनके घर में कलीसिया को संदर्भित करता है। (रोमियों 16:5) कलीसिया कोई इमारत नहीं, बल्कि विश्वासी और विश्वासियों का एक समूह है।

कलीसिया (CHURCH) क्या है? और इसका अस्तित्व क्यों है?
Image by J F from Pixabay

वास्तव में, एक्कलेसिया (Ecclesia) के दो अर्थ हैं: बाहर बुलाए हुए, और एक साथ इकट्ठे होने के लिए। इन्हें परमेश्वर ने संसार में से बुलाया हुआ है ताकि ये एक साथ गठकर परमेश्वर की महिमा करें। जब तक हम एक साथ नहीं आते तब तक हम कलीसिया का अनुभव नहीं कर सकते। उदाहरण के लिए मेरी पत्नी और मैं एक हैं। मीलों दूर रहकर भी हम एक हैं। लेकिन जब तक हम एक साथ नहीं आते, तब तक हम अपने विवाह के लाभों और आशीषों का अनुभव नहीं करते हैं।

दूसरे शब्दों में हम कह सकते हैं कि एक कलीसिया यीशु मसीह के प्रभुत्व के अधीन, एक साथ चलने वाले लोग हैं। विश्वासियों के समूह को कलीसिया कहा जा सकता है, जब भी वह समूह आपसी उन्नति के लिए एक साथ मिलते हैं।

मत्ती 18:20 में यीशु ने कहा, “जहां दो या तीन मेरे नाम से इकट्ठे होते हैं, वहां मैं उनके साथ होता हूँ।” इकट्ठे होने का अर्थ है संगति करना। “क्योंकि जहां दो या तीन मेरे नाम पर इकट्ठे होते हैं, वहां मैं उनके साथ होता हूँ।” जब दो या तीन सच्चे, नए सिरे से जन्मे विश्वासी उसके नाम पर एक साथ आते हैं, तो यीशु उनके साथ होता है। यीशु और उसके लोग कलीसिया हैं। यह व्यक्तिगत अनुभव है। कलीसिया की संगति में “यीशु उनके साथ” का भी यही अर्थ है। यह एक साझा अनुभव है। कलीसिया मसीह की देह है, जिसका मसीह सिर है। 

इफिसियों 1:22-23 कहता है, “और परमेश्वर ने सब कुछ उसके पांवों तले कर दिया, और उसे कलीसिया के लिये सब वस्तुओं का प्रधान ठहराया, जो उसकी देह है, और उसकी परिपूर्णता है, जो सब बातों में सब बातों को परिपूर्ण करता है।” मसीह की देह, पिन्तेकुस्त के दिन (प्रेरितों के काम 2) से लेकर मसीह के पुनरागमन तक यीशु मसीह के सभी विश्वासियों से बनी है।

कलीसिया को किसने स्थापित किया?

आज कई जगहों में जब कोई किसी पासवान का नाम लेकर बताता है कि हम तो उस पासवान की कलीसिया में जा रहे हैं तो यह बात सुनने के लिए बिल्कुल भी ठीक नहीं लगती है क्योंकि कलीसिया किसी पासवान की नहीं है बल्कि प्रभु यीशु की है। जिसके कोने का सिरा और नींव स्वयं प्रभु यीशु हैं। मत्ती दर्शाता है कि यीशु अपनी कलीसिया का निर्माण अपने ऊपर करता है। “और मैं तुम से यह भी कहता हूँ, कि तुम पतरस हो, और मैं इस चट्टान पर अपनी कलीसिया बनाऊंगा, और अधोलोक के फाटक उस पर प्रबल न होंगे।” (मत्ती 16:18)

कलीसिया (CHURCH) क्या है? और इसका अस्तित्व क्यों है?
Contributed by GNPI – Line Art

यीशु ने यह नहीं कहा कि वह अपनी कलीसिया का निर्माण पतरस पर करेगा। उसने यह स्वीकार किया कि पतरस चट्टान का एक छोटा सा टुकड़ा था (ग्रीक में पेट्रोस), जिसे यीशु बना रहा है। यीशु मसीह पर बनी कलीसिया विनम्र लोगों से बनी है, दिखावटी इमारतों से नहीं। (1 कुरिन्थियों 1:26-31)

प्रेरित पतरस आगे कलीसिया को जीवित पत्थर के रूप में संदर्भित करता है। उसके पास आकर, जिसे मनुष्यों ने तो निकम्मा ठहराया परन्तु परमेश्‍वर के निकट चुना हुआ और बहुमूल्य जीवता पत्थर है, तुम भी आप जीवते पत्थरों के समान आत्मिक घर बनते जाते हो, जिससे याजकों का पवित्र समाज बनकर, ऐसे आत्मिक बलिदान चढ़ाओ जो यीशु मसीह के द्वारा परमेश्‍वर को ग्रहण योग्य हों। (1 पतरस 2:4, 5)

कलीसिया क्या नहीं है?

कलीसिया इसलिए कलीसिया नहीं है क्योंकि यह एक संगठन, संस्था या संप्रदाय है। यह कोई इमारत नहीं है जिस पर क्रूस टंगा हुआ हो। कलीसिया सिर्फ तभी कलीसिया नहीं है यदि इसे कहीं पंजीकृत किया गया हो। कलीसिया इसलिए भी कलीसिया नहीं है यदि इसे किसी बड़ी संस्था से मान्यता प्राप्त हो। यह इस कारण से भी कलीसिया नहीं है क्योंकि इसमें नियमित रविवार की संगति, बप्तिस्मा या प्रभु भोज होता है यह एक कलीसिया इसलिए भी नहीं है क्योंकि इसमें एक पास्टर है।

उपरोक्त में से कोई भी या सभी होने में कुछ भी गलत नहीं है। परन्तु इसका अर्थ यह भी नहीं है कि कलीसिया कहलाने के लिए उपरोक्त बातें मौजूद हों।

कलीसिया के सदस्य कौन हैं?

कलीसिया के सदस्य वे हैं जिन्होंने यीशु मसीह को अपने व्यक्तिगत उद्धारकर्ता और प्रभु के रूप में ग्रहण करके नया जन्म पाया है। बाइबल के अनुसार, हम कलीसिया को दो तरह से मान सकते हैं, विश्वव्यापी कलीसिया के रूप में और स्थानीय कलीसिया के रूप में।

कलीसिया (CHURCH) क्या है? और इसका अस्तित्व क्यों है?
Contributed by GNPI – Line Art
  1. विश्वव्यापी कलीसिया – विश्वव्यापी कलीसिया में हर जगह, प्रत्येक व्यक्ति शामिल है, जिसका यीशु मसीह के साथ एक व्यक्तिगत संबंध है। (कुलुस्सियों 1:18, इफिसियों 5:25) “क्योंकि हम सब ने क्या यहूदी, क्या यूनानी, क्या दास, क्या स्वतंत्र, एक देह होने के लिये एक आत्मा के द्वारा बपतिस्मा लिया, और हम सब को एक ही आत्मा पिलाया गया।” (1 कुरिन्थियों 12:13) यह वचन कहता है कि जो कोई विश्वास करता है वह मसीह की देह का अंग है और उसने प्रमाण के रूप में मसीह की आत्मा को प्राप्त किया है। वे सभी जिन्होंने यीशु मसीह में विश्वास के द्वारा उद्धार प्राप्त किया है, विश्वव्यापी कलीसिया का निर्माण करते हैं।
  2. स्थानीय कलीसिया – स्थानीय कलीसिया, नियमित तौर पर आपस में इकट्ठी हुआ करती है। (1 कुरिन्थियों 1:2, 2 कुरिन्थियों 11:28 गलातियों 1:1-2) “पौलुस, की ओर से सब भाइयों को गलातिया की कलीसियाओं के नाम। यहाँ हम देखते हैं कि गलातिया प्रांत में कई कलीसियाएं थी – उनकी एक स्थानीय सेवकाई थी और वे पूरे प्रांत में बिखरे हुए थे। वे स्थानीय कलीसिया थीं। विश्वव्यापी कलीसिया में हर कोई शामिल है जो मसीह का है। विश्वव्यापी कलीसिया के सदस्यों को एक स्थानीय कलीसिया में संगति और उन्नति की तलाश करनी चाहिए।

कलीसिया में अगुवे की भूमिका

प्रेरितों, भविष्यद्वक्ताओं, प्रचारकों, पासवानो और शिक्षकों के बारे में क्या? क्या इन सभी अगुवों की अनुपस्थिति में भी एक कलीसिया, कलीसिया हो सकती है?

हाँ, यह उपरोक्त सभी के बिना भी कलीसिया एक कलीसिया है। इफिसियों के चौथे अध्याय में कहा गया है कि स्वयं प्रभु ने कलीसिया को ये पाँच प्रकार की सेवकाई के उपहार दिए हैं। उसने ये उपहार किसी ऐसी चीज़ को दिए जो पहले से ही अस्तित्व में थी। कलीसिया में विभिन्न सेवकाइयों में गुणवत्ता और उन्नति के लिए संतों को तैयार करने के लिए ये (कलीसिया) बहुत आवश्यक “उपहारों से सुसज्जित” है।

कलीसिया में नेतृत्व की बहुलता संतुलित परिपक्व नेतृत्व उत्पन्न करती है। जब पौलुस अपनी पहली मिशनरी यात्रा पर अन्ताकिया से निकला तो उसने नगरों में कलीसियाओं की स्थापना की। अन्ताकिया वापस जाते समय उसने उन कलीसियाओं के लिए प्राचीनों को नियुक्त किया। (प्रेरितों के काम 14:21-26)

“एक अगुवे की सेवा केवल रविवारिय सभा (साप्ताहिक सभा) का संचालन नहीं है, बल्कि सेवकाई के लिए संतों को तैयार करना है।”

कलीसिया महत्वपूर्ण क्यों है?

  1. आपस में संगति रखने के लिए।
  • ताकि हम एक दूसरे को प्रोत्साहित और सचेत कर सकें। (इब्रानियों 10:24-25)
  • ताकि हम एक दूसरे के साथ अपनी आशीषें और बोझ साझा कर सकें। (प्रेरितों 2:43-45,  4:32-37, गलातियों 6:2)
  • ताकि हम एक दूसरे की मदद कर सकें। (इब्रानियों 13:16, गलातियों 6:10)
  • ताकि हम एक दूसरे के लिए प्रार्थना कर सकें। (इफिसियों 6:18, याकूब 5:16)
  1. प्रभु के कार्य के लिए, पवित्र लोगों को तैयार करने के लिए।
  • कलीसिया में एक दूसरे की मदद करने के लिए प्रभु ने विश्वासियों को अलग-अलग उपहार दिए हैं ताकि हर कोई बहुमूल्य योगदान दे सके और एक दूसरे का निर्माण कर सके। (इफिसियों 4:11,12)
  1. संसार में प्रभावशाली गवाह होने के लिए। (यूहन्ना 13:35)
  • परमेश्वर, कलीसिया को सुसमाचार फैलाने के लिए एक उपकरण के रूप में उपयोग करता है। प्रेरितों के काम 2:43,47 दिखाता है कि कैसे यरूशलेम की कलीसिया ने उसके आसपास रहने वाले लोगों पर प्रभाव डाला, सब लोग उनसे प्रसन्न थे।

कलीसिया अस्तित्व में क्यों है?

कलीसिया का उद्देश्य परमेश्वर को महिमा देना है, अपने जीवन के द्वारा उसकी आराधना करना है जो हमेशा से आराधना के योग्य है। कलीसिया का उद्देश्य मसीह की देह में अपनी भूमिका निभाना है और कलीसिया का उद्देश्य परमेश्वर के उद्धार की योजना को दुनियां को बताना है। कलीसिया का कार्य तीन आयामी है।

Upward – परमेश्वर की आराधना करना। (1इतिहास 16:28, 29, इफिसियों 3:21) कलीसिया को एक मन और एक स्वर से परमेश्वर की स्तुति करना है। (रोमियों 15:5, 6)

Inward – कलीसिया का उद्देश्य संगति के द्वारा एक दूसरे को ग्रहण करना और एक दूसरे का निर्माण करना है। इसलिए हर विश्वासी को संगति में योगदान देना चाहिए। (1पतरस 2:5, रोमियों 15:7)

Outward – कलीसिया एक ईश्वरीय संस्थान है, जिसका उद्देश्य ईश्वरीय है। यीशु ने अपने आने के उद्देश्य को एक बार इन शब्दों में परिभाषित किया था: “क्योंकि मनुष्य का पुत्र खोए हुओं को ढूंढने और उनका उद्धार करने आया है।” (लूका 19:10) उसकी कलीसिया का भी यही उद्देश्य है। कलीसिया का उद्देश्य सभी को यीशु शिष्य बनाने के लिए है। इसके लिए उन्हें बाहर जाना होगा, सुसमाचार सुनाना होगा, यीशु की आज्ञाओं को मानना सिखाना होगा (मती 28:18-20) विचार कीजिये कि इस महान आदेश को पूरा करने के लिए आप क्या योगदान दे सकते हैं? हम अपना समय, धन, प्रतिभा, उपहार, कौशल, प्रार्थना आदि का निवेश कर सकते हैं। हम दूसरों के साथ खुशखबरी साझा कर सकते हैं।

कलीसिया कौन है?

जैसा कि हमने पहले ही बात कर दिया है कि कलीसिया, विश्वव्यापी और स्थानीय कलीसिया है। कलीसिया के लिए पवित्रशास्त्र कई शब्द चित्रों को समाहित करता है, जैसे कि मसीह की देह (1 कुरिन्थियों 12:12-31), दुल्हन (इफिसियों 5:22-33), परमेश्वर के लोग, परमेश्वर का घराना, राजकीय याजक वर्ग (1 पतरस 2:4-10) नई सृष्टि (2 कुरिन्थियों 5:17), परमेश्वर के खेत और परमेश्वर के मंदिर (1 कुरिन्थियों 3:9) मसीह की पवित्र कुँवारी (2 कुरिन्थियों 11:2) दीवट (प्रकाशितवाक्य 1:20) मसीह की पत्री (2 कुरिन्थियों 3:3) इत्यादि।

हालांकि, प्रेरितों के काम 2:41 हमें पहले नए नियम की कलीसियाओं की स्थापना के लिए प्रवेश बिंदु दिखाता है। जिन्होंने सुसमाचार पर विश्वास किया उन्होंने बपतिस्मा लिया, और उस दिन उन में कोई तीन हजार पुरूष जुड़ गए।

इस आयत (प्रेरितों के काम 2:41) में तीन प्रारंभिक शिक्षण बिंदु मौजूद हैं। सबसे पहले, जब सन्देश दिया गया, तो जिन्हें प्रभु ने बुलाया, उन्होंने उसके सन्देश को ग्रहण किया। विश्वास ही से ये मसीह के बलिदान के द्वारा परमेश्वर के परिवार में जुड़ गए। हालांकि यह यहीं नहीं रुका। उन्होंने बपतिस्मा के माध्यम से उनकी मृत्यु, गाड़े जाने और पुनरुत्थान में मसीह के शरीर के साथ खुद को पहचानना भी चुना।

यह सत्य इस पद (प्रेरितों के काम 2:41) में हमारे लिए एक दूसरी शिक्षा की बात करता है। जिन्होंने संदेश को स्वीकार किया उन्होंने बपतिस्मा लिया। बपतिस्मा तुरंत स्वीकृति के बाद होता है। यहाँ पर जोर कुछ लोगों के तात्कालिक समावेशन पर है, जिनके बारे में कहा जाता है कि उन्होंने प्रेरितों के काम 2:36-37 में यीशु की हत्या की थी, और स्वीकृति के बाद बपतिस्मा की स्पष्ट मिसाल।

ऐसा प्रतीत होता है कि बपतिस्मा के लिए किसी भी मानक के अनुसार जीने की आवश्यकता के संबंध में किसी भी तर्क को खारिज कर दिया गया है, क्योंकि मोक्ष निर्माता की सचमुच हत्या से ज्यादा गंभीर पाप की कल्पना नहीं की जा सकती है। यह मसीह के व्यक्तिगत उद्धारकर्ता स्वीकार करने से पहले, बपतिस्मा से संबंधित संभावित झूठी शिक्षा का भी उत्तर देता है।

आखिर में जिन्होंने बपतिस्मा लिया था, “वे उनके साथ जुड़ गए।” इसका मतलब है कि उनके पास पहचानने योग्य सदस्यता थी। उन्हें पता था कि कौन अंदर है और कौन नहीं। कलीसिया सभी की सेवा के लिए Open है, लेकिन विशेष रूप से उन लोगों के लिए जिन्होंने आज्ञाकारिता में प्रभु का अनुसरण किया है, जिसके पहले चरण में वचन ग्रहण करना और बपतिस्मा हैं।

कलीसिया कब मिलती है?

यहाँ उत्तर पत्थर में नहीं लिखा है; वास्तव में, पहली कलीसिया की मिसाल दैनिक सभाओं (प्रतिदिन) की ओर संकेत करेगी। (देखें प्रेरितों के काम 2:46) हालाँकि, जो कहा जा सकता है, बैठक के लिए एक नियमित योजना की आवश्यकता है। इब्रानियों 10:24-25 कहता है, “और आओ हम इस पर विचार करें कि हम किस प्रकार प्रेम और भले कामों में एक दूसरे को उभारें। हम आपस में मिलना न छोड़ें, जैसा कि कितनों की आदत है, पर एक दूसरे को उत्साहित करें – और ज्यों ज्यों उस दिन को निकट आते देखें, त्यों त्यों और भी अधिक यह किया जाए।” 

कलीसिया को कब मिलना चाहिए? इस प्रश्न के साथ कई संस्कृतियों ने संघर्ष किया है। क्या इस तरह का शेड्यूल लागू किया जाना चाहिए? (प्रेरितों के काम 2:46) यहां उत्तर स्वतंत्रता के पक्ष में होना चाहिए। समय और सेवा की लंबाई शास्त्र में अनिवार्य नहीं है। हालांकि, व्यक्तिगत आराधना को बढ़ावा देने वाली विश्वास प्रणालियों से नए विश्वासियों के बीच निरंतरता जरूरी है। यहाँ उद्देश्य, मिलने की आदत को स्थापित करना है। (इब्रानियों 10:24-25)

कलीसिया कहाँ मिलती है?

इस प्रश्न का उत्तर देखने के लिए भी हमें उन प्रारम्भिक कलीसियाओं को देखना होगा जो नियमित तौर पर मिला करती थीं। (पढ़ें प्रेरितों 2:46, 5:42, 16:40, 17:5-7, 18:7, 19:9, 20:20, रोमियों 16:1-5, 1 कुरिन्थियों  16:19, कुलुस्सियों 4:15, फिलेमोन 1:1-2) 

प्रत्येक मामले में, नए नियम का उदाहरण स्पष्ट है। वास्तव में, शास्त्र में कोई अन्य स्थान मौजूद नहीं है। और शास्त्र के उदाहरण का अर्थ है कि कलीसिया घरों में मिलती थी। क्या आप परमेश्वर के राज्य के विस्तार के लिए अपना घर देने को तैयार हैं? जहाँ आप बाइबल अध्ययन की अगुवाई करें और स्थानीय कलीसिया को मजबूत करें, जिन्होंने प्रभु यीशु के बलिदान पर विश्वास किया है।

हम कलीसिया के रूप में क्यों इकट्ठा होते हैं?

यहाँ उत्तर हमारा प्राथमिक मकसद है, कि कलीसिया के रूप में हमारा प्राथमिक उद्देश्य क्या है। 1 कुरिन्थियों 10:31 कहता है, “सो तुम चाहे खाओ, चाहे पीओ, चाहे जो कुछ करो, वह परमेश्वर की महिमा के लिये करो।” यह कलीसिया के लिए एक सरल निर्देश है। कलीसिया जिस भी गतिविधि में भाग लेती है, उसे 1 कुरिन्थियों 10:31 की परीक्षा पास करनी चाहिए। जो कुछ भी परमेश्वर की महिमा करने के लिए प्रतिबद्ध नहीं है वह स्वस्थ कलीसियाई गतिविधि के दायरे से बाहर है। यह सरल निर्देश हर विश्वासी के लिए है कि हम हर एक कार्य परमेश्वर की महिमा के लिए करें। इसके अलावा कुछ भी कार्य एक अशुद्ध भेंट होगी। शास्त्र एक साथ मिलने की आदत के लिए एक मकसद के रूप में आपसी जवाबदेही और प्रोत्साहन भी प्रदान करता है।

कलीसिया (CHURCH) क्या है? और इसका अस्तित्व क्यों है?
Contributed by GNPI – Line Art

इब्रानियों 10:24-25 कहता है, “और आओ हम इस पर विचार करें कि हम किस प्रकार प्रेम और भले कामों में एक दूसरे को उभार सकें। हम आपस में मिलना न छोड़ें, जैसा कि कितनों की आदत है, पर एक दूसरे को उत्साहित करें – और ज्यों ज्यों उस दिन को निकट आते देखें, त्यों त्यों और भी अधिक यह किया जाए।” दर्शन, जवाबदेही और प्रोत्साहन ऐसे संसाधन हैं जिन्हें नियमित रूप से नवीनीकृत किया जाना चाहिए। जैसे शरीर के लिए भोजन, या मशीन के लिए ईंधन, देह के ये लाभ हमें सही दिशा में आगे बढ़ाते हैं। संगति को मत छोड़ो! पवित्र आत्मा संगति के लिए एक आंतरिक प्रेरणा उत्पन्न करेगा, सामूहिक रूप से मिलने की आदत को आदर्श होना चाहिए। ऐसा करने से नए विश्वासियों को इब्रानियों 10:24-25 में वर्णित लाभों के बारे में पता चलेगा।

एक कलीसिया का कार्य क्या है?

कलीसिया का कार्य जानने के लिए हमें फिर से प्रारम्भिक कलीसिया को देखना होगा। (पढ़ें प्रेरितों 2:38-47) पहली कलीसिया ने क्या किया? सुसमाचार सुनाया – निर्णय के लिए निमंत्रण (38) विश्वासियों को बपतिस्मा दिया (41) अगुवों के निर्देशों का पालन किया (42) संगति किया – एक दूसरे से प्रेम किया (42) रोटी तोड़ा – प्रभु भोज/खाना (42) प्रार्थना किया (42) जरुरतमंदों को दिया (44-45) प्रतिदिन मिलना (46) प्रभु की स्तुति (47)

क्या आप इन्हें एक स्वस्थ कलीसिया के कार्य मानते हैं? यदि प्रेरितों के काम 2:38-47 से बनाई गई स्वस्थ कार्यों की सूची में कुछ भी गायब है तो क्या आप इसे एक स्वस्थ कलीसिया मानते हैं? इसका मतलब है कि कलीसिया की गतिविधियाँ, मसीह की आज्ञाओं का पालन करते हुए, कलीसिया के लिए शुरुआती बिंदु हैं। यह औपचारिक कलीसिया पहचान, नेतृत्व या कलीसिया में अनुशासन की आवश्यकता को कम नहीं करता है क्योंकि विश्वासी स्वस्थ आत्म-खोज अध्ययन से भटक गए हैं। परिपक्वता के इन तत्वों में से प्रत्येक जन आवश्यक रूप से अनुसरण करेगा और प्रभु की आज्ञाओं के प्रति आज्ञाकारिता में आदेश लाने में मदद करेगा। इन तत्वों में कमी एक कलीसिया के आत्मिक स्वास्थ्य पर प्रश्न है, इससे हमें मूल्यांकन करने में भी मदद मिलती है कि हमारी स्थानीय कलीसिया किस बात में चूक रही है। 

इन प्रारम्भिक कलीसिया की जीवन शैली के द्वारा हम ये भी पता कर सकते हैं कि वो कौन-कौन सी बातें हैं जो हमें भी मानना चाहिए और दूसरों को भी मानना सिखाना चाहिए। (मती 28:18-20) 

सारांश

संक्षेप में कहें तो, कलीसिया कोई इमारत नहीं है। यह कोई क्लब नहीं है और न ही कोई प्रदर्शनी स्थल, जैसा कि आज कई जगहों में कलीसिया को बना दिया गया है। बाइबल के अनुसार, कलीसिया मसीह की देह है – वे सभी जिन्होंने उद्धार के लिए यीशु मसीह में अपना विश्वास रखा है। जिन्होंने मन फिराया है और बपतिस्मा लिया है। (प्रेरितों 2:28-47, यूहन्ना 3:16, 1 कुरिन्थियों 12:13) स्थानीय कलीसिया ऐसे लोगों की संगति है जो मसीह के नाम का दावा करते हैं। स्थानीय कलीसिया वह जगह है जहाँ विश्वासी 1 कुरिन्थियों अध्याय 12 के सिद्धांतों को पूरी तरह से लागू कर सकते हैं। प्रभु यीशु मसीह के ज्ञान और अनुग्रह में एक दूसरे को प्रोत्साहित करना, सिखाना और निर्माण करना इत्यादि। यहाँ कोई छोटा या बड़ा नहीं है बल्कि हर एक को एक विशेष जिम्मेदारी दी गई है, जिसको सभी देह के सदस्यों को मिलकर करना है। 

कलीसिया (CHURCH) क्या है? और इसका अस्तित्व क्यों है?
Contributed by GNPI – Line Art

कलीसिया मसीह की दुल्हन है, जो यीशु और उसके अनुयायियों के बीच के रिश्ते को दर्शाता है। कलीसिया यीशु से अलग होकर फलवन्त नहीं हो सकती है। (यूहन्ना 15) कलीसिया अच्छे चरवाहे की देख-रेख में सुरक्षित है, यह चरवाहा उनकी जरूरतों को पूरी करता है, यह उन्हें रास्ता दिखाता है। और कलीसिया अपने चरवाहे को पहचानती है। (यूहन्ना 10) नए नियम में, कलीसिया को अक्सर विश्वासियों के एक समुदाय के रूप में वर्णित किया जाता है जो यीशु में अपने विश्वास और उनके प्रेम और उद्धार के संदेश को फैलाने की उनकी प्रतिबद्धता से एकजुट होते हैं।

कलीसिया को अपनी जीवन शैली के द्वारा परमेश्वर की आराधना करना है, परमेश्वर को महिमा देना है और उस उद्धार की योजना को संसार के छोर तक पहुँचाना है जो हर किसी का रिश्ता परमेश्वर साथ संभव बनाता है। अब कलीसिया प्रभु यीशु के दूसरे आगमन के इंतज़ार में है और अपने आप को उसके आगमन के लिए तैयार कर रही है।

शालोम

विचार कीजिये:

  • क्या आज हमारी जीवन शैली प्रारम्भिक कलीसिया के जैसी है? (प्रेरितों 2:38-47) यदि नहीं तो आप क्या योगदान दे सकते हैं?
  • क्या आपके पास दिए गए वरदानों का इस्तेमाल आप कलीसिया की उन्नति के लिए कर रहे हैं?
  • क्या आप संगति के महत्त्व को समझ रहे हैं, ज्यों-ज्यों उस दिन के नजदीक आ रहे हैं?
  • क्या आप एक दूसरे को प्रेम और भले कामों को करने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं?
  • क्या आप उस उद्धार के सन्देश को दूसरों तक पहुंचा रहे हैं, जिसकी जिम्मेदारी एक कलीसिया के रूप में हमें सौंपी गई है?
  • क्या आपके आपस के प्रेम को देखकर, संसार जान रहा है कि आप प्रभु यीशु के चेले हैं?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Anand Vishwas
Anand Vishwas
आशा है कि यहां पर उपलब्ध संसाधन आपकी आत्मिक उन्नति के लिए सहायक उपकरण सिद्ध होंगे। आइए साथ में उस दौड़ को पूरा करें, जिसके लिए प्रभु ने हम सबको बुलाया है। प्रभु का आनंद हमारी ताकत है।

More articles ―